यदि आपने अब आप ही किसी परिचित ने सहारा इंडिया परिवार कंपनी में बेसमेंट किया है  

तो आप यह जानते होंगे कि कंपनी में निवेश करने वाले अधिकांश नागरिकों को पैसे अभी तक नहीं मिले है  

कुछ दिन पहले सहारा कंपनी ने एक विज्ञापन में यह कहा था कि उन्होंने यह पैसा सेवी (SEBI) का कहना है 

उन्हें अभी तक केवल 81.70 करोड रुपए के लिए लगभग 53,642 पासबुक से जुड़े कुल 19,644 आवेदन पत्र प्राप्त हो सके हैं। 

सहारा इंडिया परिवार के संस्थापक सुब्रत रॉय के खिलाफ नागदा जिले के किशोर कुमार ने एक कार्यवाही भी की है  

क्योंकि उन्होंने सहारा की नवादा शाखा में लगभग 12.04 लाख रुपया जमा किए थे। 

परंतु उन्हें सहारा के तरफ से भुगतान प्राप्त नहीं हुए। और इसीलिए अदालत में दोनों मामलों की सुनवाई के पश्चात आवेदक के पक्ष में फैसला सुनाया है 

और सहारा इंडिया परिवार को 11% ब्याज के साथ पूरा पैसा भुगतान करने का आदेश भी जारी किया है तथा आप यह जानकर हैरान रह जाएंगे 

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है क्योंकि इससे पहले भी मेरठ में सुब्रत रॉय एक सहारा इंडिया के खिलाफ 10 बड़े अधिकारियों ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज करवाया है  

तथा यह भी आरोप जारी किया है कि उन्होंने सहारा परिवार में लगभग ₹25,05,000 का निवेश किया था परंतु उन्हें उनका पैसा वापस नहीं मिला है